Best Romantic and SAd Shayri

Romantic Shayari

मेरे आँखों के ख्वाब , दिल के अरमान हो तुम ,
तुम से ही तो में हु , मेरी पहचान हो तुम ,
में जमीं हु तो मेरे आसमान हो तुम,
सच मनो तो मेरे लिए तो सारा जहाँ हो तुम। 


परवाह उसकी कर जो तेरी परवाह करे ,
जिंदगी में कभी तनहा न करे ,
जान बन कर उतर जा उसकी रूह में। ,
जो जान से भी ज्यादा तुझसे प्यार और वफ़ा करे। 


जलते बुझते दिए सा लग रहा हु ,
में अंदर ही अंदर भभक रहा हु ,
किसी और की जरूरत ही क्या मुझे अब ,
में ठहरा खुदगर्ज खुद ही खुद को ठग रहा हु ,
ये कैसी आग है जो जलती ही नहीं ,
बूझकर भी अश्को के साये में सुलग रहा हु ,
सख्स था जो मुझमें जाने कहा चला गया ,
असल में भी अब तो नक़ल सा लग रहा हु में। .. 

तुझे चाहा भी तो इजहार ना कर सक ,
काट गयी उम्र किसी से प्यार ना कर सके ,
तूने माँगा भी तो अपनी जुदाई मांगी ,
और हम थे की इंकार ना कर सके। 



इस मोहब्बत की किताब के ,
बस दो ही सबक याद हुए ,
कुछ तुम जैसे आबाद हुए ,
कुछ हम जैसे बर्बाद हुए.





Best Romantic and SAd Shayri Best Romantic and SAd Shayri Reviewed by Virendra Singh on June 14, 2017 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.