शक की इंतहा

शक की इंतहा तो तब हो गई ........

जब बायपास करा चुके एक पेशंट की पत्नी ने सर्जन से मात्र एक ही प्रश्न पूछा--

डॉ. साहब , कोई और तो नही मिली न इनके दिल मे ?

शक की इंतहा शक की इंतहा Reviewed by Virendra Singh on May 15, 2016 Rating: 5

2 comments:

  1. भाई वीरेंद्र सिंह जी, आपकी पोस्‍ट बहुत मजेदार है। पर यह बहुत छोटी हैै। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि आप इतनी छोटी पोस्‍ट क्‍यों लिखते हैं? मैं कल अपनी एक पोस्‍ट पब्लिश करने वाला हूं। मेरी आपको सलाह है कि आप उस पोस्‍ट को जरूर पढ़ें और वह भी बहुत ही अच्‍छे से। यकीनन पोस्‍ट पढ़ने के बाद आपकेे मन में कई विचारणीय सवाल पैैदा होंगें। आप चाहें तो उन पर सवाल जवब कर सकते हैं।

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब। बहुत ही मजेदार। अच्‍छा लगा।

    ReplyDelete

Powered by Blogger.