क्या खूब् लिखा है

शानदार पंक्ति।
.
.
.
" एक धावक की तरह आइए, एक योगी की तरह बैठिए
और
एक
राजा की तरह जाइए। "
.
.
क्या ये जीवन के लिए लिखा है ???
.
.
.
जी नहीं।

ये एक सुलभ शौचालय ( टॉयलेट ) के द्वार पर लिखा था।
क्या खूब् लिखा है क्या खूब् लिखा है Reviewed by Virendra Singh on October 25, 2015 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.