फनी अदालत

हरियाणा की ताई



एक बार एक मुक्कदमे में ताई गवाह बणा दी गई।
ताई जा कर खड़ी होई,
दोनो वकील भी ताई के गाँव के ही थे !


1 वकील बोला " ताई तू मन्ने जाने है ?
ताई बोली :- हाँ भाई तू रामफूल का है ना...
तेरा बापु घणा सूधा आदमी था
पर तू निक्कमा एक नम्बर का झूठा
एर झूठ, बोल बोल कर के तूं लोग ने ठगै है।

" झूठे गवाह " बना कर के तू केस जीते से ।
तेरे से तो सारे लोग परेशान है, तेरी लुगाई भी परेशान हो कर के तन्ने छोड़ गै भाज गी


वकील बेचारा चुप हो कर के उसने सोचा
तेरी तो बेज्जती हो गई अब  दुसरे की और करा

उस वकील ने थोडी देर में
दूसरे वकील की तरफ इशारा कर के
पुछा :- " ताई "  तू इसने जाणे से के ..?

ताई बोली :-" हाँ " यो फुलीयो काणे का छोरा से इसके बापु ने निरे रपिये खर्च करके इने पढाया पर इसने 'आंक ' नही सीखा सारी उमर छोरिया क पीछै हांडे गया. इसका चक्कर तेरी बहू से भी था !

              (  कोर्ट में जनता हांसन लाग गी  )

               जज बोला :- "आर्डर आर्डर "
                 और दोनो वकील बुलाये

    जज बोला :- अगर तुम दोनो वकीलो मे से
      किसी ने भी इस ताई से यो पुछा के


               " इस जज न जाणे से "
         तो मैं थारे गोली मरवा दूँगा । 
फनी अदालत फनी अदालत Reviewed by Virendra Singh on October 08, 2015 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.