kash thoda aur vakt hota- shayri

बस यही दो मसले, ज़िन्दगी भर ना हल हुए,
ना नींद पूरी हुई, ना ख्वाब मुकम्मल हुए,
वक़्त ने कहा…..काश थोड़ा और सब्र होता,
सब्र ने कहा….काश थोड़ा और वक़्त होता !
kash thoda aur vakt hota- shayri kash thoda aur vakt hota- shayri Reviewed by Virendra Singh on September 22, 2015 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.